सबके जैसा दिखना बहुत आसान है, लेकिन सबसे अलग दिखना मुश्किल। सबसे अलग दिखने से ही हम एक नया पथ प्रदर्शक बन सकते हैं, क्योकि समाज में प्रतिनिधित्व